पॉपुलर टीवी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में आने से पहले...

पॉपुलर टीवी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में आने से पहले क्या करते थे ये सभी कलाकार? आइये जानते है

0
SHARE
Loading...

फिल्म और टीवी इंडस्ट्री में स्ट्रगल के बारे में तो हम सभी ने सुना है। अमिताभ बच्चन से लेकर शाहरुख खान तक को बड़ा ब्रेक मिलने से पहले स्ट्रगल तो करना ही पड़ा था। हम किसी भी एक्टर को तभी नोटिस करते हैं जब उसने कोई हिट और यादगार रोल किया हो। अक्सर ही एक शो या फिल्म एक्टर की जिंदगी बदल कर रख देता है। ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ भी ऐसा ही एक शो है। शो में दया बेन से लेकर बाघा तक सभी किरदार सेलिब्रिटी बन गए हैं। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक इनके फैंस में शुमार हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये सभी कलाकार इस शो से पहले क्या करते थे? ये सब यहां तक कैसे पहुंचे? एक बात तो तय है कि लगभग सभी ने इस शो से पहले इन सितारों को कम ही नोटिस किया था। इस शो से पहले क्या करते थे ये लोग? आइए जानते हैं।

Loading...

दया भाभी (दिशा वकानी)
ड्रामेटिक आर्ट्स में ग्रेजुएट दिशा वकानी ने गुजराती थिएटर से एक्टिंग की शुरुआत की थी। करियर की शुरुआत में दिशा ने ‘कमसिन – द अनटच्ड (1997)’ जैसी बी ग्रेड फिल्म में भी काम किया था। दिशा, ‘देवदास (2002)’ और ‘जोधा-अकबर’ जैसी फिल्मों का भी हिस्सा रही हैं।

दिलीप जोशी (जेठालाल गढ़ा)
दिलीप जोशी ने भी गुजराती थिएटर से एक्टिंग की शुरुआत की थी। दिलीप जोशी ने 1989 में ‘मैंने प्यार किया’ में नौकर के किरदार से इंडस्ट्री में कदम रखा। उसके बाद ‘क्या बात है’, ‘शुभ मंगल सावधान’, ‘ये दुनिया रंगीन हैं’ जैसे शो और दर्जनों फिल्मों का हिस्सा भी रहे।

अंजलि मेहता (नेहा मेहता)
नेहा मेहता ने अपने कई साल गुजराती थिएटर को दिए। नेहा ने 2001 में ज़ी टीवी के ‘डॉलर बहू’ शो के साथ टीवी पर कदम रखा। 2002 में आए ‘भाभी’ ने नेहा को टीवी इंडस्ट्री का जाना पहचाना नाम बना दिया।

चंपकलाल गढ़ा (अमित भट्ट)
अमित भट्ट ने कई गुजराती थिएटर में काम किया है। वो सबसे पहले ‘यस बॉस’ शो में एक भूमिका में नजर आए थे। उसके बाद उन्होंने ‘खिचड़ी’, ‘चुपके-चुपके’, और ‘एफआईआर’ जैसे शो में भी काम किया।

बबिता जी (मुनमुन दत्ता)
बंगाली बाला मुनमुन दत्ता ने पुणे में रहकर अपना कॉलेज पूरा किया है। मुनमुन ने पुणे में रहते हुए कई फैशन शो में हिस्सा लिया है। मुनमुन ने 2004 में ज़ी टीवी के ‘हम सब बाराती’ से एक्टिंग डेब्यू किया है। मुनमुन ने ‘मुंबई एक्सप्रेस’ और ‘हॉलिडे’ फिल्म में भी काम किया है।

पत्रकार पोपटलाल (श्याम पाठक)
श्याम पाठक ने सीए की एग्जाम देने के बाद नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा ज्वाइन किया था। पाठक सबसे पहले 1997 की ‘घूंघट’ फिल्म में नजर आये थे। ‘तारक….’ से पहले वो एक और शो ‘जसुबेन जयंतीलाल जोशी की जॉइंट फैमिली’ में भी नजर आए थे।

तारक मेहता (शैलेष लोढ़ा)
लेखक-अभिनेता शैलेष लोढ़ा ने बहुत छोटी उम्र सी ही लिखना शुरू कर दिया था। मार्केटिंग में पोस्ट ग्रेजुएशन करने वाले लोढ़ा ने लेखन के लिए अपनी जॉब भी छोड़ दी थी। शैलेष कई कॉमेडी शो कर चुके हैं। वो छोटे परदे पर सबसे पहले ‘कॉमेडी सर्कस’ के प्रतिभागी के रूप में नजर आए थे।

आत्माराम तुकाराम भिड़े (मंदार चांदवड़कर)
मंदार चांदवड़कर ने कई सालो तक दुबई में बतौर मैकेनिकल इंजीनियर काम किया है। 1998 में चांदवड़कर ने एक थिएटर ग्रुप ‘प्रतिबिंब’ भी शुरू किया था। इसके बाद उन्होंने कई हिंदी मराठी कॉमेडी प्ले और सीरियल में काम किया है।

माधवी भिड़े (सोनालिका जोशी)
सोनालिका जोशी ने भी एक्टिंग की शुरूआत थिएटर से ही की। इसके बाद सोनालिका ने मराठी टीवी सीरियल और टीवी कमर्शियल्स की ओर रुख किया।

कृष्णन सुब्रह्मण्यम अय्यर (तनुज महाशब्दे)
तनुज महाशब्दे ने मरीन कम्युनिकेशन में डिप्लोमा किया है। वो अक्सर ही भोपाल में नुक्कड़ नाटक भी किया करते थे। तनुज से जुड़ी एक मजेदार बात यह है कि वो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के लिए बतौर लेखक काम करते थे। दिलीप जोशी ने उन्हें शो में मुनमुन दत्ता का पति बनने का सुझाव दिया था।

Loading...

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY